Bishnoi saves deer, deers in bishnoi village, bishnoi saves wildlife
 
 
 
 

Latest Video new

[ + view all Video + ]

Latest Photo new

[ + view all Photos + ]

Bishnoi Calendar new

        December 2018
S M T W T F S
            1
2
3
4
5
6
7
8
9
10
11
12
13
14
15
16
17
18
19
20
21
22
23
24
25
26
27
28
29
30
31
         
[ + view all Events + ]

Articles

[ + view all Articles + ]
 
Add to Favorites Contact Us
Welcome : Guest
शब्द ॥ 95 ॥

ॐ वाद विवाद फिटाकर प्राणी ,छाड़ो मनह्ठ का भाणो ।

काही के मन भयो अंधेरो , काही सूर उगाणो ।

नुगरा के मन भयो अंधेरो , सूगरा सूर उगाणो ।

चरण भी रहीया लोह न झुरिया , पिंजर पड़यो पुराणो ।

बेटा बेटी बहनर भाई सब से भयो अभाणो ।

तेल लियो खल चौपै जोगी , रीता रहियो घाणो ।

हंस उड़ाणो पंथ विलंब्यो कीयो दूर पयाणो ।

आगै सुरपति लेखो मांगै , कह जीवड़ा क्या करम कमाणो ।

जिवड़ा नै पाछै सूझन लागो ,सुकृत नै पछताणो ॥




शब्द ॥ 96 ॥

ॐ सुण गुणवन्ता ,सुण बुधवंता , मेरी उत्पति आद लुहारुं ।

भाठी अंदर लोह तपीलो ,तंतक सोना घड़ै कसारुं ।

मेरी मनसा अहरण , नाद हथोड़ा ।

शशीयर शूर तपीलो , पवन अधारी खालूं ।

जे थे गुरु का शब्द मानीलो , लंघवा भव जल पारूं ।

आसन छोड़ सुखासन बैठो । जुग जुग जीव जम्भ लुहारुं ॥





शब्द ॥ 97 ॥

ॐ विष्णु विष्णु तूं भण रे प्राणी जो मन माने रे भाई ।

दिन का भूला रात न चेतया ,कांय पड़ा सूता ?

आस किसी मन थाई ।

तेरी कूड़ काची लगवाड़ घणो छै , कुशल किसी मन भाई ।

हिरदै नाम विष्णु को जंपो ,हाथ करो टवाई ।

हरि पर हरि की आण न मानी , भूला भूल जपी महमाई ।

पाहण प्रीत फिटाकर प्राणी , गुरु बिन मुक्त न जाहीं ।

पांच करोड़ी ले प्रहलाद उतरियो , जिन खरतर करी कमाई ।

सात करोड़ी ले राजा हरिश्चन्द्र उतरियो , तारादे रोहितास हरिश्चन्द हाटो हाट बिकाई ।

नव करोड़ी राव युधिष्टिर ले उतरियो , धन धन कुन्ती माई ।

बारह करोड़ समाहन आयो , प्रहलादा सूं कवलजूं थाई ।

किस्की नारी बस्त पियारी ,किसका बहनरूं भाई ।

भूली दुनिया मर मर जावे , न चीन्हो सुर राई ।

पाहण नाऊं लोहा सक्ता, नुगरा चीन्हत काई ॥



  Website Designed & Maintained By : 29i Technologies